*गढ़सलाण सामाजिक संस्था ने किया यमकेस्वर में हरेलामास वृक्षारोपण

आज 21 जुलाई रविवार को गढ़सलाण विकास समिति पँजी० द्वारा यमकेश्वर विकास खँड के ‘बिनक’ गाँव में वृक्षारोपण कार्यक्रम में 140 फलदार पौधौं का रोपण किया गया, जिसमें गढ़सलाण अध्यक्ष राजेश राणा, उपाध्यक्ष हरेन्द्र रौथाण, महासचिव वी०पी० भट्ट ‘सलाणी’ , सँगठन सचिव अर्जुन पयाल, स्थानीय सदस्य महिपाल रौथाण, बलवीर सिंह, डा० सत्यपाल गुलेरिया, पत्रकार सुदीप कपरुवाण तथा सँस्था की महिला मँडल नारीशक्ति ने भाग लिया । गढ़सलाण सँगठन सदैव ग्रामीण क्षेत्रों में ही नि:शुल्क जनहित कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं, ताकि उत्तराखँड के जरूरतमँद परिवारों को आजीविका का कोई साधन मिले और पहाड़ के पलायन को कम करने में गढ़सलाण सँगठन की भूमिका सहायक हो । फलदार वृक्षों को थोड़ी मेहनत देने से परिवार को तीन वर्ष बाद एक अच्छा रोजगार मिल सकता है, और सरकार की योजना भी सफल होगी ।*

*गढ़सलाण ने कोटद्वार उद्यान विभाग की चयनित नर्सरी ज्योति नर्सरी से बरसाती मौसम में लगने वाले मौसमी, नींबू, आम्रपाली आम, माल्टा, काला अमरूद आदि फलदार पौधों को लाकर चयनित गाँवों में वृक्षारोपण कार्यक्रम की शुरुआत बिनक गाँव से की । इसके लिये पहले ही उद्यान विभाग ने अपने अधिकारी को भेजकर सर्वेक्षण करवाया और फलदार पौधे लगाने के लिये अपनी सहमति प्रदान की ।*
*वृक्षारोपण कार्यक्रम को सहयोग देने के लिए उद्यान विभाग के चीफ डा० नरेन्द्र कुमार, डा० एस०एन० मिश्रा, कृषि विभाग के देवेन्द्र सिंह जी का तथा आज उपस्थित समस्त कार्यकर्ताओं का हार्दिक आभार* 🙏


आगामी कांवड़ मेला के दृष्टिगत ऑटो एवं विक्रम यूनियन के संचालकों की यातायात व्यवस्था एवं यात्रियों की सुविधा हेतु ली, गई मीटिंग, दिए गए आवश्यक दिशा निर्देश*

कोतवाली ऋषिकेश दिनांक 10 जुलाई 2019
**************************
*आगामी कांवड़ मेला के दृष्टिगत ऑटो एवं विक्रम यूनियन के संचालकों की यातायात व्यवस्था एवं यात्रियों की सुविधा हेतु ली, गई मीटिंग, दिए गए आवश्यक दिशा निर्देश*
**************************
*आगामी कांवड़ मेला के दृष्टिगत* ऋषिकेश शहर मैं *यातायात व्यवस्था एवं यात्रियों की सुविधा हेतु* आज कोतवाली ऋषिकेश में *ऑटो एवं विक्रम कि यूनियन के प्रधानों/ कोषाध्यक्षो आदि व्यक्तियों के साथ क्षेत्राधिकारी ऋषिकेश से महोदय के समक्ष प्रभारी निरीक्षक ऋषिकेश एवं ट्रेफिक इंस्पेक्टर के निर्देशन में मीटिंग रखी गई।*
दौरान मिटिंग *उच्चाधिकारियों के द्वारा दिए गए आदेशों एवं नियमों के विषय में सभी को जानकारी दी गई।* पुलिस एवं ऑटो/टेंपो यूनियन के प्रधानों के द्वारा आपसी विचार विमर्श को सुनकर निम्नलिखित नियमों एवं बातों पर चर्चा की गई।
1- *नियमों का पालन करेंगे।*
2- *क्षमता से अधिक सवारी नहीं बिठाएंगे।*
3- *यात्रियों की सुविधा हेतु रेट लिस्ट लगाएंगे।*
4- *लोकल यात्रियों की सुविधा हेतु शहर के अन्दर विक्रम/ऑटो/टेंपो के 15 चालकों को पास जारी किए जाएंगे।*
5- *प्रत्येक यूनियन अपने 15 चालकों की लिस्ट देगी जिनको पास जारी किए जाएंगे।*
6- *स्टैंड पर कैमरों की सुविधा उपलब्ध की जाएगी।*
7- *सभी यूनियन अपने-अपने चालकों के नाम व मोबाइल नंबर की लिस्ट थाने को उपलब्ध कराएंगे।*

उपरोक्त नियमों के विचार विमर्श पर मीटिंग रखी गई। दौरान ए मीटिंग कोतवाली ऋषिकेश में क्षेत्राधिकारी ऋषिकेश महोदय श्री वीरेंद्र सिंह रावत, प्रभारी निरीक्षक कोतवाली ऋषिकेश श्री रितेश शाह, ट्रेफिक इंस्पेक्टर श्री प्रबोध घिल्डियाल, वरिष्ठ उपनिरीक्षक श्री मनोज नैनवाल एवं ऋषिकेश टेंपो/ऑटो/विक्रम के प्रधान व कोषाध्यक्ष, लक्ष्मण झूला के प्रधान एवं कोषाध्यक्ष, राम झूला के प्रधान एवं हरिद्वार के प्रधान एवं कोषाध्यक्ष मौजूद रहे।

अपहरण कर्ता धरे गए

दिनांक 09.07.19 को एक बन्द लिफाफा श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदया जनपद देहरादून के कार्यालय से थाना हाजा को प्राप्त हुआ जिसको खोलकर मुझ प्रभारी निरीक्षक द्वारा अवलोकन किया गया जिसमे एक पत्र डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस जॉन VI चैम्बर मुम्बई का व थाना चुन्नाभट्टी जिला मुम्बई महाराष्ट्र की FIR संख्या 00/19 वर्ष 2019 दिनांक 05.07.19 धारा 364 A/341 IPC बनाम शोयब पता अज्ञात की छायाप्रति व तहरीर की छायाप्रति प्राप्त हुयी जिसमे वादी मौहम्मद मुजाहिद शेख निवासी मोहम्मद मेहरअली बिल्डिंग रूम न0 2, नुर गुलझार हॉटेलच्याजवळ, कुरेशीनगर, कुर्ला पुर्व, मुम्बई ने अपनी तहरीर मे अंकित किया है कि दिनांक 30.06.19 को मेरे पिता मौहम्मद मुजिद अहमद शेख मुम्बई फ्लाईट से जौलीग्रान्ट एयरपोर्ट डोईवाला पर शाम के समय पहुँचे थे जहाँ वह अपने जानने वाले शोयब नाम के एक व्यक्ति के बुलाने पर मुम्बई फ्लाईट से जौलीग्राण्ड एयर पोर्ट डोईवाला गये थे जहा से शोयब ने अपने साथियो के सात उन्हे ले जाकर उनका अपहरण कर उनको बन्धक बना दिया है तथा फिरौती मे लाखो रुपयो की माग की जा रही है। उनके द्वारा एक लाख रुपये अपहरणकर्ताओ को दे दिये गये है परन्तु अपहरणकर्ता तीन लाख रुपयो की और माग कर रहे है। दाखिला FIR संख्या 00/19 वर्ष 2019 दिनांक 05.07.19 धारा 364 A/341 IPC बनाम शोयब पर थाना हाजा पर मु0अ0सं0 144/19 धारा 364 A/341 IPC बनाम शोयब दि0 घटना 30.06.19 तथा अभियोग की विवेचना SSI श्री मनमोहन सिंह नेगी के सुपुर्द की गयी। घटना अपहरण व फिरौती से सम्बन्धित व संगीन होने के कारण श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदया जनपद देहरादून के आदेशानुसार श्रीमान पुलिस अधीक्षक ग्रामीण महोदय एवं श्रीमान क्षेत्राधिकारी महोदय के परिवेक्षण मे प्रभारी निरीक्षक डोईवाला के निर्देशन मे तत्काल थाना पुलिस टीम व SOG की टीम घटित की गयी टीम द्वारा सर्विलान्स व मुखबीर खास की मदद से पतारसी-सुरागरसी करते हुये थाना क्षेत्र मिर्जापुर जिला सहारनपुर के कुशालपुर गाँव मे एक आम के बाग मे दबीश देकर 04 अपहरणकर्ताओ को मौके पर गिरफ्तार किया तथा इनके चंगुल से टैन्ट के अन्दर चारपाई मे बंधे अपहर्ता/पीडित मौ0 मुजीद अहमद को बन्धन मुक्त किया मौके से एक अभियुक्त फरार हो गया। अपहरणकर्ताओ के चंगुल से मुक्त किये मौ0 मूजीद अहमद व गिरफ्तार शुदा चारो अभियुक्तो को थाने पर लाया गया व आवश्यक कार्यवाही की जा रही है।
उत्तराखण्ड पुलिस की इस वरिष्ठ कार्यवाही तथा मात्र 06 घंटे के अन्दर पीडित को अपहरणकर्ताओ के चंगुल से मुक्त कराकर व अपहरणकर्ताओ को गिरफ्तार किया जिसकी भूरी-भूरी प्रशंसा पीडित व पीडित के परिजन द्वारा तथा मुम्बई पुलिस द्वारा की गयी है।
*नाम व पता अभियुक्त-*
(1)-अभियुक्त शोयब पुत्र सलीम नि0 जलालाबाद थाना भवन जिला शामली उ0प्र0
(2)दानिश अली पुत्र आबाद अली कस्बा बेहट थआना बेहट जिला सहारनपुर उ0प्र0
(3)शाहबाज पुत्र साकिर नि0 वर्मा जी बिल्डिंग शामली थाना शामली जिला शामली उ0प्र0
(4) रईस पुत्र हारून न्0 कस्बा बेहट थाना बेहट जिला सहारनपुर उ0प्र0
(5) सोनू नाम पता अज्ञात फरार

*पुलिस टीम*
1-प्रभारी निरीक्षक राकेश कुमार गुंसाई
2-व0उ0नि0 मनमोहन सिहं नेगी
3-उ0नि0 कमलेश प्रसाद गौड
4-हे0का0 55 राजकुमार
5-कानि0 66 शशिकान्त
6-कानि0 714 विकास कुमार

*SOG टीम-* 1-निरीक्षक श्री ऐश्वर्या पाल 2-कानि0 प्रमोद 3-कानि0 ललित

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में बृहस्पतिवार को प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी ओपीडी की साप्ताहिक क्लिनिक आयोजित की जाएगी।

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में बृहस्पतिवार को प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी ओपीडी की साप्ताहिक क्लिनिक आयोजित की जाएगी। संस्थान में बीते सप्ताह से शुरू हुई प्रारंभिक कैंसर परीक्षण ओपीडी में रोगियों के परीक्षण व परामर्श के लिए विभिन्न विभागों के विशेषज्ञ चिकित्सकों को तैनात किया गया है। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि कैंसर के लगातार बढ़ते मरीजों के मद्देनजर संस्थान में प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी क्लिनिक प्रत्येक सप्ताह बृहस्पतिवार को दोपहर दो से चार बजे तक नियमितरूप से संचालित की जाएगी। जिससे कैंसर की बीमारी को शुरुआती अवस्था में ही पहचान कर उपचार किया जा सके। एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने बताया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के वार्निंग सिग्नल के मद्देनजर संस्थान की ओर से लोगों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी साप्ताहिक ओपीडी क्लिनिक बीते बृहस्पतिवार (चार जुलाई) से शुरू कर दी गई है। उन्होंने बताया कि नार्थ इंडिया में एम्स दिल्ली के बाद ऋषिकेश एम्स में ही प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी क्लिनिक ( कैंसर निवारण क्लिनिक) संचालित की जा रही है। बताया कि इस क्लिनिक के जरिए हम मरीजों की जांच कर कैंसर को शुरुआती अवस्था अथवा कैंसर बनने से पहले पकड़ सकते हैं, जिसका शतप्रतिशत इलाज संभव है। निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान द्वारा उपलब्ध कराई गई इस सुविधा का लाभ तभी संभव है, जब अधिकाधिक लोग इस बीमारी के प्रति जागरुक हों व इसके कारकों का त्याग करने के साथ ही अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग रहें। उन्होंने बताया कि प्रेवेंटिव ओंकोलॉजी क्लिनिक में मुहं के कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर, गर्भाशय के कैंसर आदि की जांच की समुचित सुविधा उपलब्ध कराई गई है। साथ ही ओपीडी क्लिनिक के साथ ही इसमें तंबाकू निवारण क्लिनिक का संचालन भी किया जा रहा है। ओपीडी क्लिनिक में मेडिकल ओंकोलॉजी विभाग, विकिरण चिकित्सा, मनोरोग, महिला रोग और शल्य चिकित्सा विभाग के विशेषज्ञ चिकित्सकों को भी मरीजों की जांच व उपचार के लिए तैनात किया गया है। उन्होंने बताया कि क्लिनिक रेडियो ओंकोलॉजी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर मनोज गुप्ता की देखरेख में संचालित की जा रही है।

हिर्चस्प्रंग बीमारी से ग्रस्त एक छह दिन के नवजात की बिना चीरे की सफलतापूर्वक सर्जरी

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में पीडियाट्रिक सर्जरी विभाग के चिकित्सकों ने हिर्चस्प्रंग बीमारी से ग्रस्त एक छह दिन के नवजात की बिना चीरे की सफलतापूर्वक सर्जरी की है, नवजात को जन्म से जातिविष्ठा या मल नहीं निकलने की समस्या थी। संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने नवजात की बिना चीरा लगाए जटिल सर्जरी करने वाली चिकित्सकीय टीम की इस सफलता को सराहा और इसके लिए उन्हें बधाई दी। एम्स निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि पीडियाट्रिक सर्जरी सहित विभिन्न तरह की सर्जरी वाले विभागों के चिकित्सकों को संस्थान की ओर से इस तरह की जटिलतम सर्जरी के लिए प्रोत्साहित करने के साथ ही हरसंभव सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं,जिससे रोगियों को संस्थान में मुकम्मल उपचार का लाभ मिल सके। निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि पीडियाट्रिक विभाग में इस तरह की जन्मजात बीमारियों की जटिल सर्जरी को करने के लिए सभी प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध हैं, जो कि उत्तराखंड ही नहीं समीपवर्ती राज्यों के लोगों के लिए भी एक वरदान है। निदेशक प्रो. रवि कांत ने बताया कि विभाग में बच्चों की सर्जरी दूरबीन विधि व रोबोट द्वारा की जाती है, साथ ही इसके लिए विभाग को आईसीयू-वेंटीलेटर कृत्रिम सांस की मशीन आदि सभी जरुरी संसाधन उपलब्ध कराए गए हैं। उन्होंने बताया कि एम्स अस्पताल में बाल सर्जरी विभाग में छह दिन के नवजात मास्टर अर्श को जन्म से ही मेकोनियम जातविष्ठा या मल के नहीं निकलने की समस्या थी। जिससे बच्चे को उल्टी व पेट फूलने की समस्या थी। लोअर जीआई कांट्रास्ट स्टडी ( बेरियम इनमा) से बच्चे के हिर्चस्प्रंग बीमारी से पीड़ित होने के लक्षणों का पता चला। निदेशक एम्स प्रो. रवि कांत ने बताया कि सामान्यतौर पर इस बीमारी में पीड़ित का इलाज तीन चरणों में किया जाता है, जिसमें पहली सर्जरी कोलोस्टोमी मल निकलने के लिए पेट में रास्ता बनाया जाता है और दूसरे चरण में रोगग्रस्त आंत्र खंड का आकार बदला जाता है और सामान्य आंत्र खंड को गुदा नलिका में नीचे उतारा जाता है, जबकि अंतिम चरण में कोलोस्टोमी बंद की जाती है। इस बीमारी में मरीज को कम से कम 18 महीने लगातार फॉलोअप में अस्पताल आना पड़ता है। जिससे मरीज के इलाज में होने वाला खर्च भी अत्यधिक बढ़ जाता है। उन्होंने बताया कि संस्थान में की गई इस सर्जरी को पीजीआई चंडीगढ़ के पीडियाट्रिक सर्जरी विभाग के प्रो. राम समुझ की अगुवाई में एम्स ऋषिकेश के डा. इंतजार अहमद व डा. इनेने युश के सहयोग से अंजाम दिया गया। निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि यह सर्जरी एकल चरणीय बिना चीरे वाली सर्जरी ट्रांसएनल एंडो -रेकटल पुल कहलाती है। जिसमें पीड़ित बच्चे को जनरल एनेस्थीसिया दिया गया और रोगग्रस्त आंत्र खंड को गुदा द्वार के जरिए हटा दिया गया। इसके लिए बच्चे के पेट पर किसी भी तरह का चीरा नहीं लगाया गया,कोई कोलोस्टोमी नहीं की जाती। बच्चा सामान्यतौर पर दूध पी रहा है और दो से तीन बार मल त्याग कर रहा है। बताया कि एहतियातन अस्पताल में तीन दिन दाखिले के बाद बच्चे को डिस्चार्ज कर दिया गया है। एम्स के पीडियाट्रिक सर्जरी विभाग के डा. इंतजार अहमद ने बताया कि हिर्चस्प्रंग बीमारी एक जन्मजात विसंगति है,जिसमें नवजात या तो मल त्याग नहीं करता है या मल त्याग में बहुत समय लगता है। यह बीमारी आंत्र में नाइग्रंथि कोशिकाओं के पलायन के फेल होने से होती है। इस बीमारी का फैलाव अलग- अलग उम्र के बच्चों में भी होता है। चिकित्सक के अनुसार यह बीमारी नवजात बच्चों में आपात स्थिति भी पैदा कर सकती है या थोड़ी उम्र में शिशुओं में गंभीर मलावरोध कब्ज जैसी हो सकती है।

भारत-नेपाल उत्तराखण्ड नदी परियोजनाएं


प्रदेश के सिंचाई, बाढ़ नियंत्रण, लघु-सिंचाई, वर्षा जल संग्रहण, जलागम प्रबन्धन, भारत-नेपाल उत्तराखण्ड नदी परियोजनाएं, पर्यटन, तीर्थाटन, धार्मिक मेले एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने आज नई दिल्ली स्थित श्रम शक्ति भवन में केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत से मुलाकात कर उत्तराखण्ड की सिंचाई परियोजनाओं एवं बांधांे पर चर्चा की।
श्री महाराज ने केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत से मुलाकात के दौरान उत्तराखण्ड स्थित सिंचाई परियोजनाओं सहित जमरानी बांध व सोंग बांध को लेकर विस्तृत चर्चा की। श्री महाराज ने केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री को बताया कि सोंग बांध एक बहुआयामी पेयजल योजना है। उन्हांेने जमरानी बांध की महत्ता को बताते हुए कहा कि जमरानी बांध बनने से जहां एक ओर हल्द्वानी और इसके आस-पास भरपूर पानी मिलेगा वहीं इस बांध से उत्तर प्रदेश को भी पर्याप्त पानी मिल सकेगा। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री से जलाशयों के निर्माण को लेकर व्यापक चर्चा करते हुए 15 जलाशयों के निर्माण हेतु आर्थिक मदद भी मांगी। आगामी कुम्भ मेले की तैयारियों को लेकर भी महाराज ने केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह को विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर प्रदेश की सिंचाई सचिव भूपिंदर कौर औलख भी मौजूद थी।
सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग।

भारत-नेपाल उत्तराखण्ड नदी परियोजनाएं


प्रदेश के सिंचाई, बाढ़ नियंत्रण, लघु-सिंचाई, वर्षा जल संग्रहण, जलागम प्रबन्धन, भारत-नेपाल उत्तराखण्ड नदी परियोजनाएं, पर्यटन, तीर्थाटन, धार्मिक मेले एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने आज नई दिल्ली स्थित श्रम शक्ति भवन में केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत से मुलाकात कर उत्तराखण्ड की सिंचाई परियोजनाओं एवं बांधांे पर चर्चा की।
श्री महाराज ने केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत से मुलाकात के दौरान उत्तराखण्ड स्थित सिंचाई परियोजनाओं सहित जमरानी बांध व सोंग बांध को लेकर विस्तृत चर्चा की। श्री महाराज ने केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री को बताया कि सोंग बांध एक बहुआयामी पेयजल योजना है। उन्हांेने जमरानी बांध की महत्ता को बताते हुए कहा कि जमरानी बांध बनने से जहां एक ओर हल्द्वानी और इसके आस-पास भरपूर पानी मिलेगा वहीं इस बांध से उत्तर प्रदेश को भी पर्याप्त पानी मिल सकेगा। उन्होंने केन्द्रीय मंत्री से जलाशयों के निर्माण को लेकर व्यापक चर्चा करते हुए 15 जलाशयों के निर्माण हेतु आर्थिक मदद भी मांगी। आगामी कुम्भ मेले की तैयारियों को लेकर भी महाराज ने केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह को विस्तृत जानकारी दी। इस अवसर पर प्रदेश की सिंचाई सचिव भूपिंदर कौर औलख भी मौजूद थी।
सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग।

थाना डालनवाला

थाना डालनवाला

आज दिनांक 06/07/19 को वादी अंकित गुप्ता पुत्र स्वर्गीय श्री राकेश गुप्ता निवासी कृष्णा नगर कॉलोनी फेस 3, जनपद बरेली द्वारा थाना डालनवाला में लिखित तहरीर दी की मैं वीर इलेक्ट्रॉनिक्स राजपुर रोड, राज प्लाजा में नौकरी करता हूं। आज मेरे मालिक द्वारा अपना एटीएम एचडीएफसी बैंक का मुझे पैसे निकालने के लिए दिया गया। पैसे निकालने के लिए मैं राजपुर रोड स्थित एचडीएफसी बैंक के एटीएम में पहुंचे, वहाँ एटीएम कार्ड इस्तेमाल करने पर उक्त कार्ड नहीं चला तभी वहां दो लड़के आए और उनके द्वारा मुझे एटीएम कार्ड दोबारा डाल कर एटीएम पिन चेक करने के लिए कहा गया। तभी उनमें से एक युवक द्वारा मुझे बातों में लगा लिया इसी बीच मैंने एक आवाज सुनी तो मैंने देखा कि दूसरा युवक मेरे एटीएम को अपने हाथ में किसी मशीन पर स्वैप कर रहा था। जब मेरे द्वारा उसका विरोध किया गया तो उक्त दोनों युवक मुझे धक्का देकर वहां से भाग गए। मेरे द्वारा उन्हें रोकने की कोशिश की गई तभी बाहर से दो अन्य युवक आये और उनके द्वारा मेरे साथ हाथापाई की गई। मेरे द्वारा शोर मचाने पर वह सब एक कार ईऑन में बैठकर भागने का प्रयास करने लगे तभी एक अन्य कार सवार द्वारा उनके आगे अपनी कार लगा दी। जिस पर वह सभी कार से उतर कर मौके से फरार हो गए। मुझे शक है कि उक्त व्यक्तियों द्वारा मेरे एटीएम कार्ड को उक्त मशीन में स्वैप कर उसका सारा डाटा चोरी कर लिया है। वादी द्वारा दी गई उक्त लिखित तहरीर के आधार पर थाना डालनवाला में संबंधित धाराओं में अभियोग पंजीकृत कर उक्त कार को कब्जे पुलिस लिया गया है। चारों अभियुक्तों की तलाश हेतु पुलिस टीम गठित कर अग्रिम कार्रवाई की जा रही है।

थाना नेहरुकोलोनी

थाना नेहरुकोलोनी

श्री ओम प्रकाश जुयाल पुत्र पितांबर जुयाल निवासी जी 290 नेहरू कॉलोनी द्वारा श्रीमान वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय को प्रार्थना पत्र प्रेषित किया गया था जिसमें शिकायतकर्ता द्वारा विपक्षी राजेश शर्मा पुत्र राधेश्याम शर्मा निवासी नवादा एवं सरिता शर्मा पत्नी राजेश शर्मा निवासी नवादा पर आरोप लगाया गया था कि उनके द्वारा सरिता क्रेडिट केयर नाम की फाइनेंस कंपनी खोली गई थी जिसमें शिकायतकर्ता द्वारा प्रतिमाह 7500 रुपए कुल 16 किस्त में कुल ₹120000 जमा किए गए जिस पर उक्त फाइनेंस कंपनी द्वारा ब्याज सहित पैसा वापस देना था लेकिन जब पैसा वापस देने की बात आई तो फाइनेंस कंपनी के मालिक राजेश शर्मा एवं सरिता शर्मा द्वारा पैसा लौटाने से मना किया गया एवं शिकायतकर्ता को धमकाया गया उक्त प्रार्थना पत्र थाना नेहरू कॉलोनी पर जांच की गई जांच में प्रथम दृष्टया मामला सही पाया गया जिसमें आज दिनांक 6 जुलाई 2019 को उक्त प्रार्थना पत्र पर शिकायतकर्ता की तहरीर के आधार पर राजेश शर्मा एवं पत्नी सरिता शर्मा के विरुद्ध फर्जी फाइनेंस कंपनी खोलने एवं पैसे ना लौट लौटाने के संबंध में अभियोग पंजीकृत किया गया है। मुकदमे की विवेचना जारी है

पुलिस मुख्यालय से प्राप्त 136 ई- चालानिग मशीन में से 13 मशीनें सीपीयू देहरादून को मिली

आज दिनांक 06/07/19 को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदया के निर्देशन में श्री प्रकाश चन्द्र, पुलिस अधीक्षक यातायात, देहरादून के द्वारा पुलिस मुख्यालय से प्राप्त 136 ई- चालानिग मशीन में से 13 मशीनें सीपीयू/ यातायात को आबंटित करते हुए दून चौक पर प्रायोगिक तौर पर शुभारम्भ किया गया, जिसमें कि यातायात नियमों का उल्लघन करने वाले 04 वाहनों का चालान कर इनको ई-चालान मशीन की विशेषता बताते हुए भविष्य में यातायात नियमों का पालन किये जाने हेतु हिदायत दी गयी। उक्त ई- चालान मशीनों में वाहन संख्या दर्ज करते ही वाहन की समस्त जानकारी यथा (आर0सी0 / इन्सोरेन्स / परमिट / प्रदूषण ) की वैधता प्राप्त हो जायेगी, जिससे यह स्पष्ट होगा कि वाहन चालक यातायात नियमों के प्रति कितना सजग है । साथ ही इन मशीनों के माध्यम से चालानी प्रक्रिया के दौरान गलत नम्बर प्लेट से वाहन चलाने वाले वाहन / जाली ड्राईविंग लाईसेंस लेकर वाहन चला रहे चालक को पकड़ा जा सकता है, जिससे कि यातायात व्यवस्था के साथ ही जालसाजी जैसे अपराध को भी रोका जा सकता है । इसके अतिरिक्त उक्त ई-चालानिंग मशीने के माध्यम से मौके पर ही Paytm,Google pay phone pe द्वारा QRCode Scan कर Digitally Payment कर चालान का भुगतान कर सकते हैं । अतः उक्त ई- चालान मशीनों द्वारा यातायात नियमों / अन्य अपराध करने वाले वाहन / चालकों पर प्रभावी कार्यवाही करने में सहायता प्रदान होगी । उक्त ई-चालानिंग मशीन के माध्यम से प्रारम्भिक चरण में प्रायोगिक तौर पर सीपीयू द्वारा कार्यवाही की जा रही है जिसमें कि आने वाली कमियों का निराकरण कर शीघ्र ही पूरे जनपद में ई चालान मशीन द्वारा चालानी कार्रवाई की जाएगी । दून चौक पर चालानी कार्यवाही के दौरान श्री प्रदीप कुमार, प्रभारी सीपीयू देहरादून तथा 02 हॉक मोबाईल आदि भी उपस्थित थे।

Create your website with WordPress.com
Get started